इस साल जिरु के लिए हवामान अनुकूल नहीं है फिर भी गुजरात ओर राजस्थान में जिरु की बुवाई बहुत हुई है जिरु में जब भी भेज या ओस का वातावरण हो तब उसमें रोग भी बहुत आते हैं तो में आपको बता दु के जब भी जिरु में पीली या फिर हरि चर्मी आये तो Bayer Crop Siance कंपनी का एलियट३० ग्राम ओर किसी अछि कंपनी का मेंकॉज़ेब ५० ग्राम एक पंप में दोनों को साथ मे मिलाकर अपनी जिरु की फसल पर छितकव करे उससे पीली ओर हरि दोनो चर्मी  कंट्रोल हो जाएगी

और अगर काली चर्मी आजाये तो उसके लिए आप किसी भी कंपनी का  कार्बेंडिज़म ओर मेंकॉज़ेब ५० ग्राम ओर उसके साथ सल्फर ८०% wp ५०  ग्राम दोनो को साथ मे मिलाकर एक पंप में डालके अपनी जिरु की फसल पर छितकव करे उससे काली चर्मी तुरंत कन्ट्रोल में आजायेगी ओर कभी भी आसमान में बदल जैसा वातावरण देखे तब जिरु को पानी नही पिलाना चाहिए और अब ओस बरस रही हो तबभी पानी नही देना चाहिए अन्यथा जिरु में चर्मी के रोगों में बढ़ोतरी हो सकती है ओर वातावरण अच्छा हो तो ६० दिन का जिरु होजाये तबतक पानी देना चाहिए ६० दिन के बाद पानी बंध करे इससे ज्यादा जानकारी के लिए कभीभी हमारा संपर्क करें

1 CommentClose Comments

1 Comment

  • Ghanshyam Rajput
    Posted February 28, 2020 at 4:58 pm 0Likes

    Trecatar mate ketla taka sabasidi malashe paresh t

Leave a comment

Newsletter Subscribe

Get the Latest Posts & Articles in Your Email

[mc4wp_form id="517"]

We Promise Not to Send Spam:)